poetry

मैंने कल एक कील खरीदी

आखिर कितना वक़्त गवाता,
उलझन से कब तक मुह फिराता
चुनकर एक हज़ारों में,
मैंने कल एक कील खरीदी


“दो कौड़ी की कील है ये तो”
एक नज़र देख, दोस्त ने बोला
चाचा कितना ही चुन के लाये
एक साल न कपड़े टिक पाए


देख मिश्रा जी ने राग अलापा
घाटे का रहा सौदा बतलाया
“हमसे एक बार पूछ तो लेते,
भीषण डिस्काउंट दिलवा देते”


घरवाले सुनकर फ़ोन पे बोले,
कीलों से यहाँ भरे हैं झोले
नयी खरीद के क्यूँ ले आये
अचार संग क्यूँ नही मंगवाये


ऑफिस पहुँच कर नाम न लेता
पर रोज़ नया बवाल नही होता
न्यूज़ चैनल उदास थे बैठे
सबने अपने ही टॉपिक छेड़े
कब जाने मेरे मुह से निकली
मैंने कल एक कील खरीदी


फिर कीलों पर जो धागा उध्दा
सारी सिलाई ले कर फिसला
दादा की खरीदी, नानी की प्यारी
जंग विरोधी, शायद सोने से संवारी
सब कीलों का ताना बाना
मिलकर बन गया चर्चा का बहाना


सोचा कुछ कम मशवरे सह लूं
मिश्रा जी वाला मॉडल ले लूं
उनकी तीखीं बातें, नाख़ून फेरें
कांच सी प्लेट से कान पे मेरे


घर पहुंचा तो गौर से देखा,
नोक कील की तनिक थी टेढ़ी,
शुक्र करो ऑनलाइन खरीदी,
झट रिप्लेसमेंट की अर्जी दे दी

writing

Masaan

Ganges at Varanasi


पहाड़ों पे हो या समंदर किनारे, हर शेहर की अलग शक्सीयत होती है| बैंगलोर में ‘लेक’ अनेक हैं, तो कभी कभी ज़िन्दगी भी ठेहेरने लगती है| फुरसत के साथी हैं किताबें और फिल्में| कई दिनों से नाम सुन रहा था तो आखिर कल ‘मसान’ देख ली| इसमें बनारस से दो कहानियों को पिरोया गया है|


फ़र्ज़ कीजिये कि आप बैठे हैं और कोई कान पे पंखुड़ी छुआ दे| ऐसे ही चौकाने वाले किस्से से मसान की शुरुआत होती है| फिरते हुए उस पंख सी है मसान। एक तजुर्बे जैसी है, बदल देने का बूता है इसमें। आप किरदारों के साथ, सदमे से उभरते हैं| अब चौंकते नहीं, ढलने लगते हैं| बातें गुज़रती हैं जाने पहचाने रस्तो से| पुल, पटरी, नदिया, घाट और काशी की गलियो से बहता है भय, प्यार और इंतज़ार| किरदार दहाड़े मार कर नही रोते पर उलझन में दिखते हैं, कुछ टूटे से भी लगते हैं|


एक तरफ सीधी साधी लव स्टोरी शामिल है| जिसमे बातें बशीर बद्र की हों और निदा फ़ज़ली का ज़िक्र हो, उस लिखावट मे ऐब नही ढूँढने चाहिए| और फिर किरदार इतनी फुरसत देते ही नही। बांधे रखते हैं ध्यान| पुराने बरगद से लटकती टहनियो पर बिना सोचे झूल जाने में ही मज़ा है|


दूसरी तरफ एक लड़की है जिससे सबको दिक्कत है| वो झूझती है, लड़ती है और नज़रअंदाज़ भी कर देती है| ऐसे दौर से तो सभी गुज़रते हैं, नदी के विरुद्ध तैरना सा लगता है| कई देर हाँथ पाव चलने के बाद भी कोई फायदा नही होता| घाट पे दिन बिताने वाला उसका पिता ज्यादा नही बोलता| बोलते तो घाट भी नही हैं मगर उनकी गहरायी का अंदाज़ा ही लगाया जा सकता है|


घूम फिर के गंगा जी दिख जाती हैं| नदि बहुत सिखाती है| वो सूखने की कगार पर भी हो, झूझती है, बहना नही छोडती| उसका रुख बदलता रहता है, मगर इतना धीरे की दूसरों को समझ नही आता| जैसे गंगा कानपुर, बनारस और अलाहाबाद से बहती हैं, वैसे किरदार भी शेहरो से गुज़रते हैं| फिर इसमें मायूसी वाले दृश्य भी हैं| आप सोचते हैं कि ऐसा हमारे साथ हो गया तो क्या| एक अंत जिसकी सबको खबर है मगर उम्मीद नही, वो दिखता है|


साहब, ये किसी रेल सी गुज़रती है| पुल से टकराकर गंगा में गिरे सिक्के छोड़ जाती है| बस सिक्को की जगह किस्से हैं, मानो रायते में बूंदी के दाने, एक चम्मच में सारे नही आते।

Image © Kuntal Gupta

writing

IT Manager introduces performance rating at home, faces backlash.

Harish, a manager at one of the largest IT companies in India, decided to introduce performance rating system at his home.

“My expenses know only one way, up” Harish

“I had my annual performance review sheet open along with my personal expenses sheet. It appeared odd that my appraisal depends on not just personal performance. Team, business unit, company and even market performance matters. On the other hand, my expenses know only one way, up. It was then I decided to change things.”
Continue reading

poetry

Hisaab

हिसाब

चलो फिर हिसाब हो ही जाये
मुनासिब तारिख ढूँढ ली जाये

जो कहर हमपे बरपा है, वापस देदो
ज़ुल्म जो धाएं हैं, उनका सौदा होगा

तारीफें अपनी, चुन चुन के लौटादो
जो कोई छूटी, उसपे ब्याज लगेगा

निकाल के फ़ोन से, तस्वीरें दे देंगे,
पर जो लम्हे भूले जाते नही
उनके बदले क्या लीजियेगा?

याद रखिये कि ये लड़ाई बेवजह है
वजह ढूँढने का दोनों को वक़्त नही

कई फितूर तुम्हारे, मेहफूस रखे हैं
शौक से मांग लो, मगर
किसी को देने में हड़बड़ी न करना

कोई और ढूँढना पड़ेगा तुम्हारे लिए
हम सा नही, हम से भी कहीं
एक तारिख उसके लिए भी ढूँढो

writing

Meet

Eleven years had passed since I saw her last. So much had changed since. In fact, everything should have changed but didn’t. Isn’t that how time is supposed to work? I still wanted to know her.

I would appear a different person to those who knew me in school. Now, I talk more, fighting hesitations for good. I had amusing stories to fill conversations. More importantly, I realized that if you just listen to people they’ll feel the conversation was great. Humor was my best friend. Sarcasm helped say things while keeping a guard on feelings. I preferred facts over opinions. Actually, I avoided saying what I felt, until that day.

I had geared enough courage to ask her to meet. We were strangers acting as friends. She didn’t like me. Nothing close to a certain boyfriend who kept calling her. While she talked, I wondered what to say next. Kept reminding myself to not startle her with questions. We took turns asking and answering. Bouts of awkward silence threatened to bring an abrupt end to the meet.

“It was nice to see you,” she said.

Here it ends, I panicked, “Really?”

“Yes!” She shouted.

“Would you have preferred to spend this time with someone else?”  That silence lasted for an eternity or two.

“I still remember your house and phone number. Those days, phone numbers were six digits. But even if they were twenty, I would have.” As I spoke, with little doubt and exacting details, she looked puzzled by this turn of events. I knew I had a couple of minutes.

I still remember her birthday, school bag and details which I decided not to mention, fearing it’d sound creepy. Back in school days, if you liked someone you wanted to know everything about them. You had to rely on your ability to memorize, there was no Internet. If you didn’t have anything to note, you kept repeating it until you can’t forget. This is how alphabets and number tables were taught. Perhaps, that is how I remember all this about her. Sadly, nobody taught how to forget. I miss not memorizing things now. However, these days I can start forgetting by deleting them from my computer or a website. Out of sight, out of mind. This couldn’t be done for this case.

“When I won my first debate you congratulated me. Since then, anything I write had to be good enough to deserve that handshake. By the way, I won a lot of them. Remember the Annual Day at school? We were made to do those stupid drills, everyone wanted to skip. I’d go to the art room. Once you sneaked in there. I was making giant red letter boxes for a play. I made you glue them together. You couldn’t notice but I had written your name on them. Clearly, the silliest thing ever done. Life isn’t half that fun now.

When you broke the net in tennis court. You kept crying while Kajal smudged all over your face. The stupid sports teacher shouted at you and called your parents. I wanted to hurt him but couldn’t decide why.”

Like always, I had no clue what she was thinking. So I continued.

“One day, we’re stuck in traffic. Then I saw you, standing on the scooter deck, in a blue saree. Must have been the first time you wore a saree. You looked wonderful. Later, when someone asked what my favorite color was, I’d say blue. I’d come up with these excuses to call you. Genius excuses by my standards. While rehearsals went smooth, calls met a fate worse than death.”

Finally, she smiled.

“I remember this day when stuck in traffic, I kept staring at you. You noticed and waved goodbye. I didn’t know what to do. I turned around as if looking for the person you were waving to! You made me act stupid. But pretending to look for someone that I wanted to be, I figured what I didn’t want to hear from you.

That is exactly what I came here to say. Goodbye!”