writing

The Consolation

There are kids who decide early what they want to be when they grow up. Then, there are kids, like me, who dread going to the barber because they don’t even want to decide the kind of haircut they want.

Continue reading
writing

Facebook

After Reactions, a more expressive Like button, Facebook is planning to revamp “Add Friend” button. Here are few options:

First, a button that adds people to your wishlist. A way of saying, “in your dreams…”

in you dreams..

if only…

Continue reading

poetry

Dussehra


दशेहरा

रावण तो हर साल जलाते
अबके कुछ और जलाओ
दूजे धर्म के लोग जलाओ
नीच जाती के जन जलाओ

जिससे कोई बैर बचा हो
उसको चुनके आग लगाओ
बचे न कोई अलग हमसे
सबको एक सामान बनाओ

फर्क नही कर पाओगे,
तो नीति क्या बनाओगे?
भूस में आग लगाने को
चिंगारी कहाँ से लाओगे?

और जब सारे, एक से होंगे
फिर कैसे उत्पात मचेगा
भेद की आढ़ में सेंध लगे तो
खून खराबा रुक जायेगा?

writing

IT Manager introduces performance rating at home, faces backlash.

Harish, a manager at one of the largest IT companies in India, decided to introduce performance rating system at his home.

“My expenses know only one way, up” Harish

“I had my annual performance review sheet open along with my personal expenses sheet. It appeared odd that my appraisal depends on not just personal performance. Team, business unit, company and even market performance matters. On the other hand, my expenses know only one way, up. It was then I decided to change things.”
Continue reading

poetry

Hisaab

हिसाब

चलो फिर हिसाब हो ही जाये
मुनासिब तारिख ढूँढ ली जाये

जो कहर हमपे बरपा है, वापस देदो
ज़ुल्म जो धाएं हैं, उनका सौदा होगा

तारीफें अपनी, चुन चुन के लौटादो
जो कोई छूटी, उसपे ब्याज लगेगा

निकाल के फ़ोन से, तस्वीरें दे देंगे,
पर जो लम्हे भूले जाते नही
उनके बदले क्या लीजियेगा?

याद रखिये कि ये लड़ाई बेवजह है
वजह ढूँढने का दोनों को वक़्त नही

कई फितूर तुम्हारे, मेहफूस रखे हैं
शौक से मांग लो, मगर
किसी को देने में हड़बड़ी न करना

कोई और ढूँढना पड़ेगा तुम्हारे लिए
हम सा नही, हम से भी कहीं
एक तारिख उसके लिए भी ढूँढो